• in , ,

    NAG PANCHAMI PUJAN VIDHI,MANTRA ,VRAT VIDHI AND KALSHARAP DOSH MUKTI

    The celebration of Nag Panchami will be praised on fifth Tithi of Shukla Paksha in Shravan Maasa. Not long from now the celebration will fall in Hast nakshtra. This is the celebration of confidence and devotion. Worshiping the master Shiva on this day is viewed as exceptionally propitious. Claim to fame of Nag Panchmi As […]

  • in ,

    Papmochani Ekadashi Vrat Katha

    Papmochani Ekadashi Vrat Katha

    पुराणों के अनुसार चैत्र कृष्ण पक्ष की एकादशी पाप मोचिनी है (Chaitra kirshna paksha Ekadashi know as Papmochani Ekadashi) अर्थात पाप को नष्ट करने वाली. स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने इसे अर्जुन से कहा है. पाप मोचनी एकादशी व्रत कथा (Papmochni Ekadasi Vrat Katha) कथा के अनुसार भगवान अर्जुन से कहते हैं, राजा मान्धाता ने […]

  • in

    Shri Bhairav Aarti : श्री भैरव आरती

    Shri Bhairav Aarti

    जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा जय काली और गौर देवी कृत सेवा || जय भैरव || तुम्ही पाप उद्धारक दुःख सिन्धु तारक भक्तो के सुख कारक भीषण वपु धारक || जय भैरव || वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी || जय भैरव || तुम बिन देवा सेवा […]

  • in

    Mangalvar Vrat Ki Aarti : मंगलवार व्रत की आरती

    मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता, मंगल मंगल देव अनन्ता हाथ वज्र और ध्वजा विराजे, कांधे मूंज जनेउ साजे शंकर सुवन केसरी नन्दन, तेज प्रताप महा जग वन्दन॥   लाल लंगोट लाल दोउ नयना, पर्वत सम फारत है सेना काल अकाल जुद्ध किलकारी, देश उजारत क्रुद्ध अपारी॥   राम दूत अतुलित बलधामा, अंजनि पुत्र पवन सुत […]

  • in

    Shri Venkatesh Aarti : श्री व्यंकटेश आरती

    Shri Venkatesh

    शेषाचल अवतार तारक तूं देवा l सुरवर मुनिवर भावें करिती जन सेवा ll कमलारमणा अससी अगणित गुण ठेवा l कमलाक्षा मज रक्षुनि सत्वर वर द्यावा ll १ ll जय देव जय देव जय व्यंकटेशा l केवळ करूणासिंधु पुरविसी आशा ll धृ. ll हे निजवैकुंठ म्हणुनी ध्यातों मी तू तें l दाखविसी गुण कैसे सकळिक लोकाते […]

  • in

    Lalita Mata Ki Aarti : ललिता माता की आरती

    श्री मातेश्वरी जय त्रिपुरेश्वरी। राजेश्वरी जय नमो नमः॥ करुणामयी सकल अघ हारिणी। अमृत वर्षिणी नमो नमः॥ जय शरणं वरणं नमो नमः। श्री मातेश्वरी जय त्रिपुरेश्वरी॥ अशुभ विनाशिनी, सब सुख दायिनी। खल-दल नाशिनी नमो नमः॥ भण्डासुर वधकारिणी जय माँ। करुणा कलिते नमो नम:॥ जय शरणं वरणं नमो नमः। श्री मातेश्वरी जय त्रिपुरेश्वरी॥ भव भय हारिणी, कष्ट […]

  • in

    Shri Vindhyeshwari Mata Ki Aarti : श्री विंध्येश्वरी माता की आरती

    सुन मेरी देवी पर्वत्वसिनी| कोई तेरा पार ना पाया || पान सुपारी ध्वजा नारियल | ले तेरी भेंट चडाया || सुन मेरी देवी पर्वत्वसिनी… सुवा चोली तेरी अंग विराजे | केसर तिलक लगाया || सुन मेरी देवी पर्वत्वसिनी… नंगे पग मां अकबर आया | सोने का छत्र चडाया || सुन मेरी देवी पर्वत्वसिनी… ऊंचे पर्वत […]

  • in

    Ganga Ji Aarti : आरती श्री गंगा जी की

    ॐ जय गंगे माता, श्री जय गंगे माता जो नर तुमको ध्याता, मनवांछित फ़ल पाता. ॐ जय … चन्द्र-सी ज्योति तुम्हारी, जल निर्मल आता शरण पड़े जो तेरी, सो नर तर जाता. ॐ जय … पुत्र सगर के तारे, सब जग को ज्ञाता कृपा दृष्टि हो तुम्हारी, त्रिभुवन सुखदाता. ॐ जय… एक बार जो प्राणी, […]

  • in

    Maharaja Agrasen Ji Aarti: अग्रसेन जी की आरती

    जय श्री अग्र हरे, स्वामी जय श्री अग्र हरे..! कोटि कोटि नत मस्तक, सादर नमन करें ..!! जय श्री! आश्विन शुक्ल एकं, नृप वल्लभ जय! अग्र वंश संस्थापक, नागवंश ब्याहे..!! जय श्री! केसरिया थ्वज फहरे, छात्र चवंर धारे! झांझ, नफीरी नौबत बाजत तब द्वारे ..!! जय श्री! अग्रोहा राजधानी, इंद्र शरण आये! गोत्र अट्ठारह अनुपम, […]

  • in

    Ravivar Aarti : रविवार आरती

    रविवार आरती

    Ravivar is the day to worship lord Suryadev or “Sun”. We all knows the importance of Sun. the life of anyone is on earth is only due to Sun. it give sunlight to everyone to be alive and grow on earth. Sun is the central point of Universe. God Sun has very importance in Hindus Culture. […]

Load More
Congratulations. You've reached the end of the internet.