in

Shri Bhairav Aarti : श्री भैरव आरती

Shri Bhairav Aarti
Shri Bhairav Aarti

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा
जय काली और गौर देवी कृत सेवा || जय भैरव ||

तुम्ही पाप उद्धारक दुःख सिन्धु तारक
भक्तो के सुख कारक भीषण वपु धारक || जय भैरव ||

वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी
महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी || जय भैरव ||

तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होवे
चौमुख दीपक दर्शन दुःख खोवे || जय भैरव ||

तेल चटकी दधि मिश्रित भाषावाली तेरी
कृपा कीजिये भैरव, करिए नहीं देरी || जय भैरव ||

पाँव घुँघरू बाजत अरु डमरू दम्कावत
बटुकनाथ बन बालक जल मन हरषावत || जय भैरव ||

बत्कुनाथ जी की आरती जो कोई नर गावे
कहे धरनी धर नर मनवांछित फल पावे || जय भैरव ||

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

Comments

0 comments

Mangalvar Vrat Ki Aarti : मंगलवार व्रत की आरती

Papmochani Ekadashi Vrat Katha

Papmochani Ekadashi Vrat Katha